दुर्गा सप्तशती वशीकरण मंत्र

दुर्गा सप्तशती वशीकरण मंत्रदुर्गा सप्तशती वशीकरण मंत्र अपने आपमें अमोघ वशीकरण मंत्र मन जाता है मगर आज के युग में इसके जानकार कम ही मिलते है। दुर्गा सप्तशती वशीकरण मंत्र फॉर लव बैक जैसे कई आर्टिकल आपने पढ़े होंगे मगर इसके बारे में वृहद जानकारी कही नहीं प्राप्त हो सकती क्युकी अक्सर हमे दुर्गा सप्तशती के कुछ श्लोक ही प्राप्त हो पाते है जो की कल्याणकारी होते है मगर ये असल में दुर्गा सप्तशती वशीकरण से सम्बन्धित नहीं हैं। गुरुमाता माया द्वारा दुर्गा सप्तशती वशीकरण मंत्र प्रयोग में दुर्गा सप्तशती के तंत्रोक्त पद्धति इस्तेमाल होती है जिसकी विधि पूरी तरह से वैदिक से उलट है मगर अत्यंत प्रभावशाली है।

जैसा की आज के युग में लोग तंत्र से तत्काल लाभ की उम्मीद करते है और इसी के वजह से तंत्र मंत्र के और आकृष्ट होते है तो उन लोगो के लिए दुर्गा सप्तशती वशीकरण मंत्र प्रयोग एक अचूक वशीकरण विधि है जिसका इस्तेमाल करके आप अपने जीवन में खोये हुए प्रेमी प्रेमिका को वापस प्राप्त कर सकते है या अपने वैवाहिक जीवन में आ रही परेशानियों से दुःख से कष्ट से निजात पा सकते है।

इसकेलिए आपको करना बस इतना है की कुछ वक़्त तक जबतक हमारे और से दुर्गा सप्तशती वशीकरण विधि का प्रयोग किया जा रहा होता है तो इस दौरान पूरी तरह से ब्रम्हचर्य का पालन करना होता है और प्याज लहसन से परहेज करना होता है। कुछ विशेष परिस्तिथियों में आपको गुरुमाता माया द्वारा निर्देशित तीक्ष्ण वशीकरण मंत्र का जाप करना पड़ सकता है परन्तु तीक्ष्ण वशीकरण का प्रयोग यजमान द्वारा तभी करवाया जाता है जब इसकी वाकई में जरुरत हो और परिस्तिथि बहुत जटिल हो।

दुर्गा वशीकरण मंत्र फॉर लव बैक

दुर्गा वशीकरण मंत्र फॉर लव बैकदुर्गा वशीकरण मंत्र बहुत तीव्रता से काम करता है और जल्दी ये फेल नहीं होता है इसकी यही विशेषता है। जैसा की हम सभी जानते है की दुर्गा सप्तशती का सर्वजन सुलभ पाठ करना या दुर्गा सप्तशती के गुप्त प्रयोग तांत्रिक पद्धति से करना अत्यंत लाभकारी होता है और कलयुग में ये बहुत ही उत्तम और सहज उपाय है जिसका लाभ हर वो व्यक्ति ले सकता है जिसे इसकी समुचित जानकारी हो आजकल इंटरनेट पे आधी अधूरी जानकारी प्राप्त हो जाती है जिसमे नियम और विधि का पूरा समावेश नहीं होता है और लोग उसको सही मानकर जब साधना या प्रयोग करने लगते है तो फायदे के जगह नुकसान उठाना पड़ जाता है |

इसलिए जब भी आपको किसी तांत्रिक वशीकरण मंत्र का इस्तेमाल करना हो तो किसी योग्य तांत्रिक या गुरु के मार्गदर्शन में ही इसका प्रयोग करे क्युकी जब शिष्य किसी परेशानी में पड़ जाता है तो पीछे से गुरु ही होता है जो उसको वापस उठा कर आगे बढ़ने की शक्ति प्रदान करता है और सुरक्षा भी प्रदान करता है।

दुर्गा सप्तशती वशीकरण मंत्र पद्धति बहुत ही प्राचीन है और ये एक तरह से ब्रम्हास्त्र विद्या है जिसका प्रयोग किसी विशेष उद्देशय के हेतु ही करना चाहिए वो भी तब जब आप पूर्ण रूप से शुद्ध हो और आपके विचार निर्मल हो किसी भी गलत उद्देशय के लिए किये गए तांत्रिक प्रयोग अक्सर प्रयोगकर्ता पर ही भारी पड़ते है।

क्या है दुर्गा वशीकरण कैसे करे इसका प्रयोग ?

इस संसार में ऐसे तो बहुत सरे तांत्रिक वशीकरण मंत्र उपलब्ध है जिनके बारे में लोग भली भाति परिचित है मगर उनमे से कितने प्रयोग ऐसे है जो वाकई में आपको लाभ दे सकते है या मनचाहा परिणाम दे सकते है ?शायद अगर बहुत ध्यान से सोचा जाये तो कुछ ही ऐसे विलक्षण वशीकरण मंत्र मौजूद है जो वाकई में किसी के दिमाग को नियंत्रित कर सकते है और उनमे से ही एक पद्धति है दुर्गा वशीकरण मंत्र प्रयोग की जो अत्यंत गुप्त होने के कारण अबतक प्रकाश में नहीं आयी और नाही लोग इसके बारे में पोर्न रूप से जानते है। दुर्गा सप्तशती का का एक श्लोक {ज्ञानिनापि चेतांसि, देवी भगवती ही सा। बलाद कृष्य मोहाय, महामाया प्रयच्छति।।} के बारे में ही लोग जानते है और ऐसा मानते है की यही दुर्गा वशीकरण मंत्र है जो की इस घोर कलयुग में चमत्कार कर सकता है।

दुर्गा माता की दो रूप में पूजा की जाती है। एक पद्धति वो है जिसका नवरात्री में अनुसरण करते हुए हम सभी मातारानी की कृपा प्राप्ति के लिए पूजा करते हैं और दूसरी वो जो तंत्र में इस्तेमाल होती है ये पद्धति वैदिक पद्धति से ठीक उलट है और इस तांत्रिक वशीकरण प्रयोग में भी देवी दुर्गा के वशीकरण के दो प्रयोग का वर्णन है जिसमे एक वो है जो सात्विक है और दूसरी वो जो तामसिक है।

तामसिक दुर्गा वशीकरण मंत्र को आसुरी दुर्गा के नाम से भी जाना जाता है। आसुरी दुर्गा के तांत्रिक मंत्रो के बारे में कोई खास जानकारी इंटरनेट पर आपको उपलब्ध नहीं हो सकती है क्युकी ये अत्यंत गुप्त है और इसको गोपनीय रखना ही उचित है अन्यथा लोग इसका गलत प्रयोग भी कर सकते है।

इसके लिए कैसे संपर्क कर सकते है और कैसे इस तीक्ष्ण वशीकरण मंत्र का लाभ उठा सकते है ?

दुर्गा वशीकरण प्रयोग को करने से पूर्व प्रयोगकर्ता का प्रयोजन सही होना जरुरी है। ऐसा नहीं है की किसी भी तरह के प्रयोग के लिए आप दुर्गा वशीकरण मंत्र कर देंगे और वो कार्य पूरा हो ही जायेगा। आपका उद्देश्य सही और समस्या गंभीर होना जरुरी है ये तांत्रिक वशीकरण प्रयोग आम समस्याओ के लिए नहीं है।

ये तांत्रिक वशीकरण प्रयोग करने के लिए किसी गुरुमाता माया द्वारा किसी शुभ योग और नछत्र का सर्वप्रथम विचार किया जाता है जिसमे कार्य होने की संभावना ज्यादा से ज्यादा हो इसके बाद आपकी कुंडली का वृहद विश्लेषण किया जाता है इसके बाद अगर जरुरत होती है तो ज्योतषीय उपाय सम्मिलित किये जाते है अन्यथा सिर्फ वशीकरण प्रयोग का शुभारम्भ किया जाता है ये प्रयोग चन्द्रमा के एक साइकिल पूरा होने तक चलता है इसी समय में पूर्ण किया जाता है।

अगर आप को लगता है आपके पास एक ठोस कारण है और इस दुर्लभ अमोघ वशीकरण मंत्र का प्रयोग उचित है तो आप गुरुमाता माया से व्हाट्सप्प नंबर पर या ईमेल पर संपर्क कर सकते है। अगर आपकी समस्या के लिए ये प्रयोग उचित है तो आपको सरे निर्देश गुरुमाता माया के ओर से प्राप्त हो जायेगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *